Moral Stories in Hindi For Class 5 : तीन चोर की शिक्षाप्रद कहानी

admin
6 Min Read
शिक्षाप्रद कहानी

Moral Stories in Hindi For Class 5 : नमस्कार दोस्ती एक बार फिर से स्वागत है आप सबका आपके ही अपने ब्लॉग Motivationguruji.in पर, हर रोज की तरह आज भी हम आपके लिए लाए है बेहतरीन Moral Stories in Hindi For Class 5 यानी शिक्षा 5 के प्यारे विद्यार्थीओ के लिए।

दोस्तो जैसा के आपको पता है की पहले से ही हमारे ब्लॉग पर आपके लिए बहुत सी कहानियां लिखी गई है जैसे की मोटिवेशन स्टोरी इन हिंदी, सीक्षापद कहानी वगेरे पर आज इस पोस्ट में हम बात करने वाले है तीन चोर की कहानी के बारे में।

Moral Stories in Hindi For Class 5 : तीन चोर
शिक्षाप्रद कहानी

ऐसे तीन चोर जिनके पास कुछ अदभुद शक्तियां थी और उसके सही से उपयोग न करने के वजह से कितना बड़ा नुकसान जेलना पड़ा तो चलिए पढ़ते है इस बेहतरी कहानी को जिसका नाम है Moral Stories in Hindi For Class 5 तीन चोर

Moral Stories in Hindi For Class 5 तीन चोर

Moral Story In Hindi : दोस्तो बहुत समय पहले की यह कहानी है। अमरगढ़ नाम के शहर में जय, अमन और रमन तीन चोर रहते थे। दोस्तो यह तीनों चोर के पास ज्ञान था आपको बता दें कि तीनों को थोड़ा-थोड़ा विद्या का ज्ञान था और ज्ञान होने के कारण बहुत घमण्ड भी था।

तीनों चोरों के पास जो विधा का ज्ञान था उस विद्या द्वारा तीनों चोर शहर में बड़ी-बड़ी और लोहे की तिजोरियों को तोड़ देते थे इतना ही नहीं पर वो चोर बैंक भी लूट लिया करते थे। चोरों की ऐसी हरकतों की वजह से शहर के लोग इनसे बहुत परेशान थे इस तरह तीनों चोरों ने शहर के लोगों की नाक में दम करके रखा था।

Moral Stories in Hindi For Class 5 : तीन चोर

दोस्तो एक दिन एक बार तीनों चोरों ने साथ मिलकर एक बड़े बैंक में चोरी करके सारा माल जैसे पैसा और सोना चुरा लिया। चोरी होने के बाद जब इस बात की खबर पुलिस को हुई तो तीनों चोरों को पकड़ने के लिए आस पास के इलाकों में तलाश करने लगी। मगर तीनों चोर शातिर दिमाग वाले थे, पास ही के एक घने और बड़े जंगल में भाग गए।

यह भी पढ़े….

Great Moral Story In Hindi 2024 : अहंकार छोड़िये और सीखना शुरू कीजिए

Amazing Moral Stories in Hindi for Class 5 With Moral

Moral Stories in Hindi For Class 5 महेनती किसान

तीनों चोर बड़े ही खुश होकर घने जंगल से जा रहे थे इतने में उन्होंने देखा के जंगल के रास्ते में बहुत-सी हड्डियां इधर उधर बिखरी पड़ी हैं। हड्डियां देखकर सबने अपना अपना अनुमान लगाना शुरू कर दिया और अपनी विद्या का घमंड करना भी शुरू कर दिया।

  • जय ने अनुमान लगाया और कहा- ” में यकीन के साथ कह सकता हूं की ये तो किसी शेर की हड्डियां हैं। मैं चाहूं तो अभी के अभी इन सभी हड्डियों को अपनी विद्या के ज्ञान द्वारा जोड़ सकता हूं।”
  • अमन को भी विद्या का घमंड था वह बोला – ”अगर ये शेर की हड्डियां हैं तो मैं इनको अपनी विधा पर पूरा भरोसा है की में शेर की खाल तैयार कर उसमें डाल सकता हूं।”
  • अब रमन की बारी थी रमन का भी घमण्ड उमड़ पड़ा और  बोला की – ”तुम दोनों अपनी विद्या से इतना काम कर सकते हो तो मैं भी अपनी विद्या की मदद से इसमें प्राण डाल सकता हूं।”

घमंड के चलते तीनों पागल चोर अपनी विद्या का प्रयोग करने लगे। कुछ देर बाद जय ने सारी हड्डियों को जोड़ दिया और इतना करने के बाद अमन ने शेर की हुबहू जान जान डाल दी। देखते ही देखते थोड़ी देर में तीनों चोर सामने एक जीवित भयानक शेर जीवित हो गया।

Moral Stories in Hindi For Class 5 : तीन चोर

तीनों चोरों ने जब शेर को देखा तो शेर का डरावना रूप देखकर थर-थर कांपने लगे। मगर शेर के पेट में तो अनाज का एक दाना भी नहीं था। शेर भूख से तड़प रहा था और भूख के मारे गरजता हुआ तीनों चोरों पर जोर से हमला कर बैठा चोरों को मारकर खा गया। शेर मस्त होकर और अपनी भूख मिटा कर घने जंगल की ओर चल दिया।

Moral Of The Story कहानी से शिक्षा

दोस्तों, इस कहानी से हमें यही शिक्षा मिलती है कि जिन्दगी में कभी भी घमंड नहीं करना चाहिए। जो लोग घमंडी होते है उन्हे हमेशा दुख का सामना करना पड़ता है। हमें अपनी विद्या का प्रयोग सोच-समझकर करना चाहिए।

दोस्तो अंत में इतना जरूर कहना चाहता हु की हमारे द्वारा लिखी गई यह पोस्ट Moral Story In Hindi अगर आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करे और ऐसे ही अपनी मातृभाषा हिंदी में कहानियां पढ़ने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करे।

Share this Article
1 Review